Archive for the Category »Cinema «

Journey of a Cinema Ticket

A Cinema ticket has meant a lot to a lot of people – be it the passion for cinema, a casual entertainment evening, fun of bunking the college/school or a serious love date- a movie ticket has made a lot of things happen in the lives of mango people! It’s not just a reservation of a seat in the movie flick but it entails corner seats, popcorns spilled, laughter and tears, and whistles and comments!

A cinema ticket has also travelled a long way to earn whatever it is worth of today!

 

Seventies was the era of most romantic and action flicks in Bollywood with the kinds of Bobby and Deewar. From a nostalgic lane we collect the figure- in 1976 a cinema ticket for a balcony seat in a theatre used to cost Rs 3.50! This further only amplified to Rs 5, 7 and so on! Early 90’s witnessed a pricing of Rs. 25 to 35 and in 1998, this price was Rs 50 in the city like Mumbai!

Then with the advent of multiplexes in 90’s the cinema watching scenario changed drastically and so did the worth of the cinema ticket. Starting minimum from 100 bucks, the tickets were priced anything between Rs 50 (morning shows) to Rs 150. Today the prices are anywhere between Rs. 180 to 900 of noon and evening shows in general.

Maximum average prices at the metro cities of India range today like Rs 600 in Mumbai, Rs 900 in NCR (National Capital Region), Rs 120 in Chennai and Rs. 350 in Kolkata. Whereas; smaller cities range as Rs 180 in Lucknow, Rs 300 in Chandigarh, Pune; Rs. 160 in Goa and so on. In fact, the most famous movie theater of India –Raj Mandir theatre of Jaipur keeps its ticket pricing between Rs 70 to Rs 250 in today’s date!

But the pricing isn’t all about a cinema ticket! It has much more dimensions and emotions entangled in the loop. There were queues once, when people used to spend hours standing and waiting to buy the ticket at the ticket counter- now we just log in to the movie booking site on computers or even phones and the tickets are booked!! The balconies and stalls have been bartered for chairs and plush recliners, fans are totally swapped off for air conditioners and the peanuts have happily given way to butter popcorns! Even the company for cinema watching has gradually drifted from ‘with family’ to now ‘with friends or spouses’ because of the swift transformation in the content of the films.

The transformation from then to now has been a great deal for a Cinema ticket. We all have our own instances of hearing from our friends, parents and grandparents how they once used to run away from their schools and watch a movie from their pocket money or how the entire town used to go crazy on release of the latest Amitabh Bachchan flick!

The craze and passion of cinema watching has stood much above the art of cinema making. If tried, the cinema actors , directors, writers, musicians can be counted but the huge population watching them, admiring them , drawing inspirations and changing their own lives because of them are innumerable.

Let’s hope that the mighty cinema ticket continues to give us more and more memories to add to our lives of love and passion and we continue to be as crazy as possible for Indian cinema as we were 100 years back!

Happy 100 Years of A Cinema Ticket!!

Gangs of Wasseypur – I: A Review

(GOW-I)

 

I had seen Gangs of Wasseypur – I (GOW-I) just after the edit and I was really impressed, considering it was the small screen.Soon after the Cannes and the Indian release, I began reading reviews. Frankly, the opinions of the critics were so varied that I decided to watch the movie in theater and write my own review.

GOW-I, is an epic that required bold approach and slick narration. Establishment and characterization of main characters ought to have been identifiable, lingo as well as the background score had to have the fragrance of soil of Bihar and that’s what it precisely does!

The movie opens with bangs (quite literally) and sets tone for the rest of the film which is full of violence, raw passion and brute egos. The epic is all about the revenge and survival of the protagonist who has no empathy, sympathy or softness towards anyone. Winning, revenge, manipulation, tactic and raw energy are all on exhibition with aplomb.

Frankly, I see GOW-I to be the ‘Arrival’ of hindi cinema. The film is non-pretentious and fearless and treats the subject, language, music and songs as such!

The most notable part of the narration is its treatment where sex and violence are intertwined with the clever linings of raw humor. In the audience, I heard women laughing and enjoying the dialogues more than men! It seemed to touch a chord of the audience who had chosen to come.

Manoj Vajpayee, in my opinion, was memorable in Satya, but in this movie you will witness him as an accomplished, matured, refined and a complete actor.

Huma Qureshi (the actress of Sujata that was produced by Tumbhi.com in collaboration with AKFPL ), in a short role excels! She looks like Meena Kumari and acts like Waheeda Rehman. Watch out guys, you may fall in love with her.

Satya Anand (the actor of Sujata, again a Tumbhi.com film in collaboration with AKFPL)to his credit, had an important role, where he portrays a typical useless & cowardice politician.

Richa Chaddha (the actress of ‘The epilogue’ produced by Tumbhi.com in collaboration with AKFPL) as wife of Manoj Vajpayee gives her best and truly shines with her range of emotions.

Vineet Singh (lead actor of ‘Shor’; a movie of many credits produced by Tumbhi.com in collaboration with AKFPL) including special mention by the Grand Jury at IFFLA; appears as Manoj Vajpayee’s elder son and does a great job. GOW-I sets the stage for him to play a much bigger role in GOW- II (a la Michael Corleone in The Godfather)

All other main characters fit their roles like gloves!

Besides, ‘Keh ke lenge’ that has been on every poster, my favorite dialogue is one of Huma Qureshi’s… ‘”lekin aap ko parmison to leni chahiye thi…”.

In my view, I experienced only two negatives- A couple of yawns in the first 30 mins and the tone of the song “Keh ke lenge”, when, in patches, sounded too melodious for the genre.

Overall, in my truest opinion, GOW- I is far more realistic cinema than much hyped ‘Slumdog Millionaire’ and I hope that after reading this short review you rush to a theater and experience the saga yourself.

Anurag rocks all the way!!!

Rating

Category: Cinema  Leave a Comment

Gangs Of Wasseypur Pulls Global fans at Cannes ’12

Anurag Kashyap who is known for treating cinema with a difference is all set to come out with his latest hindi flick ‘Gangs of Wasseypur’. Anurag’s ambitious and most expensive film till date Gangs of Wasseypur is based on the coal mafia of Dhanbad.

‘Gangs of Wasseypur’ was recently screened at the Cannes Film Festival, and it received a standing ovation. Known for taking up subjects that are anything but typically Bollywood, Kashyap has once again made a mark at a prestigious international platform. The film features an ensemble cast including Jaideep Ahlawat, Manoj Bajpai, Nawazuddin Siddiqui, and Richa Chadda. The film also has a fresh face Huma Qureshi who’s acting as the protagonist in a recent short film ‘Sujata’ produced by Tumbhi.com and Anurag Kashyap got a special mention by the Grand Jury at the recently concluded the 10th Indian Film Festival of Los Angeles.

 

A film spanning six decades, from 1941 to 2009, and set on the lower rungs of the mafia (in India’s eastern hinterlands), starts towards the end of colonial India where Shahid Khan loots the British trains, impersonating the legendary Sultana Daku. Now outcast, Shahid becomes a worker at Ramadhir Singh’s colliery, only to spur a revenge battle that passes on to generations. At the turn of the decade, Shahid’s son, the philandering Sardar Khan vows to get his father’s honor back, becoming the most feared man of Wasseypur. Staying true to its real life influences, the film explores this revenge saga through the socio-political dynamic in erstwhile Bihar (North India), in the coal and scrap trade mafia of Wasseypur, through the imprudence of a place obsessed with mainstream ‘Bollywood’ cinema.

According to Aunrag Kashyap ‘Gangs of Wasseypur’ which is slated for 29th June release is entertaining and mainstream, but not that fearless. It is not a Bollywood film, but about a place that is impacted by Bollywood. And the movie has certainly started making the right noises at the 65th Cannes Film Festival where the world premiere of the film received a full house. Kashyap’s film was one of the big highlights of this year. It was a big year for Indian films at Cannes and a lot of credit for that goes to the Dev.D director. His protégé Vasan Bala was also there with his debut film ‘Peddlers’. Crowds linned up the streets to lend their support for Bollywood film, being screened at Director’s Fortnight section, an independently-curated, non-competitive event that runs concurrently with the festival.

Category: Cinema  Leave a Comment

100 साल सिनेमा के: तरक्की के या गिरावट के?

हम हिंदुस्तानी परंपराओं से जश्न मनाने के शौकीन लोग हैं। हमें सिर्फ खुश होने का बहाना चाहिए। ढोलताशे और नगाड़े तो बस तैयार रहते हैं बजने के लिए। इस बार जश्न सिनेमा का हो रहा है। सौ साल के हिंदुस्तानी सिनेमा का। इस जश्न के बरअक्स तमाम बातें ऐसी हैं जिन पर बातें की जा सकती हैंबहसें हो सकती हैं और गंभीर परिचर्चाएं आयोजित की जा सकती हैं। लेकिनसिनेमा की सुध ही किसे हैन सरकार को और न सरोकार को। सिनेमा वहीं फिर से पहुंचता दिख रहा हैजहां से ये चला था।

कहते हैं कि सौ साल में हर वो संस्था अपनी पूर्णगति को प्राप्त हो लेती है जिसका जरा सा भी ताल्लुक आम लोगों से रहता है। जिस सिनेमा को बाहरगांव में गरीबी, रजवाड़ों, झोपड़पट्टियों और मदारियों के खेल तमाशों से शोहरत मिली, वो हिंदुस्तानी सिनेमा अब रा वन, रोबोट और कोचादईयान की वजह से विदेश में जाना जा रहा है। पाथेर पांचाली, मेघे ढाका तारा, सुजाता, देवदास, मुगल ए आजम, मदर इंडिया का जमाना अब गया, अब सिनेमा दबंग, वांटेड, सिंघम और सिंह इज किंग हो गया है। और, ये चलन केवल हिंदी सिनेमा का ही नहीं है बल्कि हिंदी सिनेमा में ये चलन दक्षिण की उन फिल्मों से आया है, जिन्हें बनाने वालों को सिनेमा का सिर्फ एक ही मतलब समझ आता है और वो है पैसा।

पैसा एंटरटेनमेंट से आता है और सिल्क स्मिता बनीं विद्या बालन ने अभी पिछले साल ही तो समझाया था कि एंटरटेनमेंट होता क्या है? एंटरटेनमेंट का ये नया मतलब फिल्म मेकर्स ने खुद निकाला है। नहीं तो ऐसा एंटरटेनमेंट तो पहले भी बड़े परदे पर होता रहा है। दक्षिण में श्रीदेवी और कमल हासन की शुरूआती फिल्में अगर आप देख लें तो शायद कांतिलाल शाह भी शरमा जाएं। बताने वाले बताते रहे हैं कि कैसे हिंदी सिनेमा में सुपर स्टार बनने के बाद श्रीदेवी ने अपनी तमाम बी और सी  ग्रेड वाली फिल्मों के राइट्स खरीद कर उनके प्रिंट अपने कब्जे में कर लिए थे। ये बात कोई बीस-पचीस साल पहले की है, लेकिन उससे थोड़ा और पीछे जाएं तो सिनेमा में सेक्स का तड़का लगाने के लिए राज कपूर ने पहले पहल मेरा नाम जोकर में सिमी ग्रेवाल के सहारे, फिर सत्यम् शिवम् सुंदरम् में जीनत अमान के सहारे और राम तेरी गंगा मैली में मंदाकिनी के सहारे खुलेआम कोशिशें कीं। नारी सौंदर्य के बहाने हुई इन कोशिशों को कलात्मकता की सफेद लेकिन भीगी साड़ी में ढकने की वो कोशिशें अब तक जारी हैं और साथ ही जारी है सिनेमा और मनोरंजन का वो संघर्ष जो दादा साहेब फाल्के की बनाई पहली हिंदुस्तानी फिल्म राजा हरिश्चंद्र के साथ ही शुरू हो गया था। जाहिर है दूसरे कारोबारों की तरह सिनेमा भी सिर्फ एक कला शुरू से नहीं रहा। इसे कारोबार के लिए ही रचा गया और अब तक कारोबार ही इसे रच रहा है।

सिनेमा और कारोबार के बीच एक बहुत महीन फासला रहा है। कुछ कुछ वैसा ही जैसे कि नग्नता और अश्लीलता में होता है। हिंदी समेत तमाम दूसरी भाषाओं में सिनेमा ने कुछ बेहतरीन पड़ाव पचास और साठ के दशक में पार किए। तब भी भारत का सिनेमा विदेश जाता था। सराहा जाता था और पुरस्कार भी पाता था। पर तब तक सिनेमा पथभ्रष्ट नहीं हुआ था। और तब तक सेंसर बोर्ड में ऐसे लोग भी नहीं आए थे जो कैसे इसकी ले लूं मैं, जैसे विज्ञापन तो सार्वजनिक प्रदर्शन के लिए पास कर देते रहे हों लेकिन फिल्म में तिब्बत के झंडे को लेकर उनका सामाजिक बोध एकदम से जाग जाता रहा हो। देखा जाए तो भारत में सिनेमा के सौ साल एक ऐसी बेतरतीब उगी फसल है, जिसे काटने वाले और अपना बताने वाले बहुत हैं, लेकिन इसका रकबा बढ़ाने की और बाकी की बंजर जमीन पर हल चलाने की कोशिश करने वाले गिनती के भी नहीं बचे हैं। अपने आसपास से कहानियां बटोरने वाला भारतीय सिनेमा कब धीरे धीरे डीवीडी सिनेमा में बदल गया, लोगों को पता तक नहीं चला।

असल कहानियों का टोटा

ब्लैक फ्राइडे, पांच, देव डी और गुलाल जैसी फिल्मों से मशहूर हुए निर्देशक अनुराग कश्यप कहते हैं, भारतीय सिनेमा की कोई एक पहचान नहीं है। हॉलीवुड फिल्मों की बात चलते ही हम कह देते हैं कि वहां सिनेमा तकनीक से चलता है। हमारे यहां तकनीक अभी उतनी सुलभ नहीं है। हर निर्माता सिर्फ तकनीक को सोचकर सिनेमा नहीं बना सकता। भारतीय सिनेमा की एक पहचान जो पिछले सौ साल में बनी है, उसमें मुझे एक बात ही समझ आती है और वो है इसकी सच्चाई। सिनेमा और सच्चाई का नाता भारतीय सिनेमा में शुरू से रहा है। बस बदलते दौर के साथ ये सच्चाई भी बदलती रही है और बदलते दौर के सिनेकार जब इस सच्चाई को परदे पर लाने की सच्ची कोशिश करते हैं, तो बवाल शुरू हो जाता है। अनुराग की फिल्मों के सहारे भारतीय सिनेमा के पिछले बीस पचीस साल के विकास को भी समझा जा सकता है। अनुराग कश्यप भले अपने संघर्ष के दिनों को पीछे छोड़ आए हों और अपनी तरह के सिनेमा की पहचान भी बना चुके हों, लेकिन उनका सिनेमा पारिवारिक मनोरंजन के उस दायरे से बाहर का सिनेमा है, जिसे देखने के लिए कभी हफ्तों पहले से तैयारियां हुआ करती थीं। एडवांस बुकिंग कराई जाती थीं और सिनेमा देखना किसी जश्न से कम नहीं होता था। अब सिनेमा किसी मॉल में शॉपिंग सरीखा हो चला है। विंडो शॉपिंग करते करते कब ग्राहक शोरूम के भीतर पहुंचकर भुगतान करने लग जाता है, खुद वो नहीं समझ पाता। जाहिर है सिनेमा बस एक और उत्पाद भर बन जाएगा तो दिक्कत होगी ही।

किसी भी देश के मनोरंजन में उसकी मिट्टी की खुशबू न हो तो बात लोगों के दिलों तक असर कर नहीं पाती है। भले दिबाकर बनर्जी जैसे लोगों को लगता हो कि हिंदुस्तान का साहित्य अब ऐसा बचा ही नहीं जिस पर सिनेमा बन सके, पर असल दिक्कत सिनेमा के साथ तकनीशियनों के आराम की भी है। काशीनाथ सिंह के मशहूर उपन्यास काशी का अस्सी पर सनी देओल जैसे सितारे के साथ फिल्म बना रहे डॉ. चंद्र प्रकाश द्विवेदी कहते हैं, सिनेमा खुद को बनाता है। हमें बस एक ऐसा कथ्य तलाशना होता है, जिसके जरिए हम दर्शकों के दिल को टटोल सकें। भारतीय सिनेमा के उत्थान और पतन जैसी ऐतिहासिक बातों में न पड़ा जाए तो भी ये तो कहा ही जा सकता है कि भारत में सिनेमा दो खांचों में बंटा दिखता है। इसमें एक सिनेमा वो है जिसमें सिर्फ टिकट खिड़की का मनोविज्ञान काम कर रहा होता है। ये सिनेमा सिर्फ टिकट खिड़की पर भीड़ जुटाने में यकीन रखता है। दूसरी तरह का सिनेमा भी टिकट खिड़की पर भीड़ तो देखना चाहता है, लेकिन उसे बनाने वाला ये भी चाहता है कि तीन घंटे सिनेमाघर में बिताने के बाद दर्शक खुद पर खीझता हुआ बाहर न निकले। मनोरंजन हो, लेकिन स्वस्थ हो, बस दूसरी तरह का सिनेमा यही चाहता है। लेकिन, इसके लिए रास्ता बहुत कठिन है और इस पर आपको अपनी सोच का हमसफर मिलेगा भी, ये आखिर तक ठीक नहीं होता। द्विवेदी की बातों में दम नजर आता है। रीमेक पर रीमेक बना रहे सिनेमा में वाकई असल कहानियां खोजने वाले  गिनती के हैं।

कहां गए वो लोग?

कहानियों के बाद सिनेमा के सौ साला जश्न के दौरान अगली बात निकलती है निर्देशन की। ऐसा क्यूं कर है कि अजीज मिर्जा, श्याम बेनेगल, रमन कुमार, बी आर इशारा और सागर सरहदी जैसे फिल्म निर्देशकों को इन दिनों पहले फिल्में बनाने के लिए और फिर बन जाने पर उन्हें बेचने के लिए सौ जगह सिर पटकने पड़ रहे हैं। सागर सरहदी की फिल्म चौसर लिखने वाले राम जनम पाठक कहते हैं, सिनेमा अब मूल्यों और सामाजिक जिम्मेदारियों को टटोलने का माध्यम नहीं रह गया है। ये माध्यम अब सिद्दीक जैसे लोगों का है जो एक ही फिल्म को अलग अलग तड़का लगाकर अलग अलग भाषाओं में बनाते रहते हैं। पाठक मानते हैं कि सिनेमा की सामाजिक सोच अकाल मृत्यु का शिकार हो चुकी है और अब यहां सिर्फ वही तीर मार सकता है जिसकी जेब में पैसा हो और जिसके निशाने पर भी बस पैसा ही हो। पैसे का बोलबाला सिनेमा में हमेशा से रहा है पर सिनेमा में भी नकारात्मक प्रवृत्तियों का प्रतिकार ही किया है। मशहूर निर्देशक जहानु बरूआ के साथ लंबे समय तक जुड़े रहे पटकथा लेखक निलय उपाध्याय कहते हैं, सिनेमा के सौ साल का सबक यही है कि यहां हुनर के बजाय तिजोरी का सम्मान होने लगा है। भारतीय सिनेमा खासकर हिंदी सिनेमा एक ऐसी अंधी सड़क पर रफ्तार लगा चुका है, जिसके मोड़ों और मंजिल के बारे में उसे खुद नहीं पता। सिनेमा अब सिनेमा रहा ही नहीं, वह खालिस मनोरंजन का बाजार बन चुका है। एक ऐसा बाजार जहां एक रुपये लगाकर सौ रुपये कमाने का जुआ खेला जा रहा है और जिसकी फड़ पर फेंके जा रहे पत्तों में हर बार तीन इक्के निकलने ही निकलने जरूरी हैं। ऐसे में ये तीनों इक्के किसके पास निकलेंगे जाहिर है ये पहले से तय होता है। भारतीय सिनेमा की अब विदेशी फिल्म समारोहों में बात होती है तो या तो किसी वाद विवाद के चलते या फिर देह के दर्शन के चलते। अब न लोगों को गुरुदत्त याद रहे, ना के आसिफ। यहां तक कि मनमोहन देसाई, प्रकाश मेहरा और रमेश सिप्पी तक लोगों को बीते जमाने की बातें लगने लगे हैं।

शो जस्ट गोज ऑन

सौ साल के सिनेमा के सफर में अगर दक्षिण के नामचीन कलाकारों में एन टी रामाराव, राजकुमार, जय ललिता जैसे दर्जनों सितारों के नाम लगातार आते हैं तो पश्चिम और पूरब के सितारों में ये गिनती कलाकारों की कम और सितारों की ज्यादा होती है। इस मामले में सिनेमा के साथ चारों दिशाओं में एक हादसा एक सा हुआ और वह है नए कलाकारों का सिनेमा में प्रवेश करीब करीब बंद हो जाना। सिनेमा अब करोड़ों का हो चला है और पिछले बीस साल में एक भी निर्माता ने करोड़ों का दांव किसी ऐसे लड़के पर नहीं खेला है जिससे उसका दूर दूर का कोई नाता तक न हो। हिंदी सिनेमा का आखिरी सुपर स्टार रणवीर कपूर जिस खानदान से है वो तो सबको पता ही है, उनसे पहले जो सुपर सितारा 2001 में बड़े परदे पर नमूदार हुआ वो ऋतिक रोशन भी फिल्मी परिवार का ही है। सिनेमा को नजदीक से जानने वालों को भी अब समझ में आता है कि अब सिनेमा नहीं बस प्रोजेक्ट बनते हैं। हर निर्देशक किसी न किसी सितारे को पकड़ने की जुगाड़ में कई कई साल गुजार देता है। अशोक कुमार, पृथ्वीराज कपूर आदि के जमाने के बाद भले पहले राज कपूर, देव आनंद, दिलीप कुमार, फिर अमिताभ बच्चन, राजेश खन्नाा, ध्ार्मेंद्र, विनोद खन्नाा, राजेंद्र कुमार और मिथुन चक्रवर्ती तक आते आते सिनेमा में अपने बूते कुछ बन दिखाने या कर सुनाने वालों की गिनती कम होती रही हो, पर तय ये भी रहा कि सिनेमा ने नए का स्वागत करना बंद नहीं किया। लेकिन, तीसेक साल पहले मिथुन चक्रवर्ती के सुपर स्टार बनने के बाद से फुटपाथ पर फाकाकशी करने वाले किसी आम इंसान ने रुपहले परदे  पर शोहरत का सबसे ऊंचा शिखर नहीं पाया। और, हिंदुस्तानी सिनेमा की पतन गाथा की शुरूआत भी बस वहीं से शुरू होती है।

तकनीक का उनवान

राजेंद्र कुमार की गोरा और काला, दिलीप कुमार की राम और श्याम, हेमा मालिनी की सीता और गीता से लेकर शाहरूख खान की ओम शांति ओम तक आते आते डबल रोल को ही सिनेमा की बेहतरीन तकनीक समझने वालों के नजरिए में भी कुछ ऐसा बदलाव आया है कि अब रा वन में अर्जुन रामपाल को एक ही फ्रेम में दस दस अवतारों में देखकर भी लोगों को अचंभा नहीं होता। दशावतारम व रोबोट के बाद अगली बारी विश्वरूपम् और कोचादईयान की है लेकिन मशहूर सिनेमैटोग्राफर विजय अरोरा कहते हैं कि हिंदुस्तानी सिनेमा में भावनाएं हमेशा तकनीक पर बाजी मारती रहेंगी। देश का आम दर्शक तीन घंटे के लिए जब सिनेमाघर में घुसता है तो कहीं न कहीं उसकी पीठ पर पसीने की कुछ बूंदें टिकी रह ही जाती हैं। परदेस में सिनेमा देखने आने वाले ज्यादातर लोग महंगी कारों से आते हैं, अपने यहां अब भी मल्टीप्लेक्स में सिनेमा देखने वाले ज्यादातर लोग ऑटो रिक्शा से आते हैं। बस सिनेमा का असल फर्क यहीं है। सिर्फ महंगे हॉलों में सिनेमा देखने भर से सिनेमा की परंपरा नहीं बदलती। सिनेमा की परंपरा इसे देखने वालों के जीवन में होने वाले बदलावों से बदलती है।

सूख रही संगीत सरिता

भारतीय सिनेमा की विदेश में एक बड़ी पहचान इसके संगीत की वजह से ही रही है। दुनिया में सबसे ज्यादा फिल्में बनाने वाले देश भारत में तकरीबन हर फिल्म में संगीत को तवज्जो दी जाती है और गाने इसकी पहचान रहते हैं। पर, अब ये संगीत सरिता अपने गोमुख में ही सूख रही है। मशहूर संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के प्यारे लाल कहते हैं, भारतीय सिनेमा ने पिछले बीस तीस साल में सबसे ज्यादा पतन अगर किसी विभाग में देखा है तो वो संगीत ही है। नए संगीतकारों में इन दिनों बस कुछ ऐसा कर देने की होड़ लगी है जो उनके गाने के मुखड़े को लोगों की जुबान पर चढ़ा दे या फिर जिसकी बीट्स पर कम कपड़ों वाली लड़कियां डिस्कोथेक में ठुमके लगा दें। धिक्कार है ऐसी तुकबंदियों पर जिसे लोग संगीत के नाम पर बेच रहे हैं। मैं मानता हूं कि संगीत को सबसे ज्यादा नुकसान पायरेसी ने पहुंचाया है, लेकिन ये भी संगीत कंपनियों का बस एक बहाना है। जितना पैसा पहले संगीत कंपनियां सीडी या कैसेट बेचकर नहीं कमा पाती थीं, उससे कहीं ज्यादा पैसा वो कॉलर ट्यून्स बेचकर कमा रही हैं, बस नीयत बदल गई है। सिने संगीत के स्वर्णिम काल की याद दिलाने पर प्यारे लाल कहते हैं, वो जमाना ही कुछ और था। सौ लोगों का आर्केस्ट्रा अगर किसी स्टूडियो में नहीं आ पाता था तो हम लोग रात में किसी पार्क में जाकर रिकॉर्डिंग कर लिया करते थे। पर अब ना वो हरियाली बची है, ना रातों का सन्नााटा और ना लोगों में संगीत का वो जुनून। हर कोई जल्दी में हैं। हर किसी को शॉर्टकट पता हो गए हैं। लेकिन सिनेमा का तिलिस्म शॉर्ट कट से नहीं उपजता, इसके लिए लंबी और थका देने वाली मेहनत करनी ही होती है।

संकेत पानसिंह तोमर और कहानी के ..

सार्थक सिनेमा, समानांतर सिनेमा और इतर सिनेमा के बाद हिंदी सिनेमा में इन दिनों एक नया सिनेमा धीरे धीरे शक्ल लेने लगा है। ये है जमीनी सिनेमा। जी हां, वो सिनेमा जो हिंदुस्तान की जमीन से अपनी खुराक पाता है। हमारे आपके बीच से कहानियां उठाता है और उसे बिना किसी दिखावे या लाग लपेट के ज्यों का त्यों परदे पर परोस देता है। पान सिंह तोमर और कहानी की कामयाबी के बहाने तुमभी.कॉम के सलाहकार व वरिष्ठ पत्रकार पंकज शुक्ल की इस नए जमीनी सिनेमा के चलन पर एक टिप्पणी।

 

“लोग अब सितारों से ज्यादा कहानियों पर ध्यान देने लगे हैं। विद्या बालन की फिल्मों ने दर्शकों के सोचने के नजरिए में इस तरह का बदलाव लाने में बड़ी भूमिका निभाई है।”-बिपाशा बसु

“अब 14-15 साल का बच्चा भी फिल्मों की कहानियों की चोरी या संगीत की धुनों की चोरी पकड़ सकता है। ऐसे में जरूरी हो गया है कि हम अपनी तरह की फिल्में बनाएं।”-विनय तिवारी

साल की शुरूआत में प्लेयर्स जैसी मल्टीस्टारर फिल्म को मिली नाकामयाबी और इधर पहले पान सिंह तोमर और फिर कहानी को दर्शकों से मिली वाहवाही से एक बात का संकेत साफ मिलता है और वो ये कि दर्शक अब मसाला फिल्मों के निर्माताओं के मायाजाल से निकलने को छटपटा रहे हैं। जमीन से जुड़ी कहानियों को मिल रहे अच्छे प्रतिसाद ने उन निर्माता निर्देशकों के भी हौसले बुलंद किए हैं जो बजाय विदेशी फिल्मों की नकल करने की बजाय अपने आसपास की कहानियों को परदे पर उतारने की परंपरा का पालन करते रहे हैं। पान सिंह तोमर और कहानी की कामयाबी का सबसे दिलचस्प पहलू ये है कि भले विद्या बालन ने इस फिल्म के प्रचार के लिए एक गर्भवती महिला का स्वांग भरकर जबर्दस्त प्रचार किया हो लेकिन इस फिल्म के प्रचार में एक भी अभिनेता ने हिस्सा नहीं लिया। वहीं, पान सिंह तोमर के प्रचार के लिए इन दिनों फैशन बन चुके सिटी टूर तक नहीं हुए। इरफान चुपचाप अपनी पंजाबी फिल्म किस्सा की शूटिंग करते रहे और एक अच्छी फिल्म के बारे में लोगों को बताने का जिम्मा टि्वटर और फेसबुक पर मौजूद इरफान के प्रशंसकों ने संभाल लिया। दोनों फिल्मों की अच्छाइयां बताने के लिए सोशन नेटवर्किंग साइट्स पर एक अभियान सा छिड़ा दिखा और इन दोनों फिल्मों को हिंदी सिनेमा में कथानक की वापसी और स्टार सिस्टम की विदाई के तौर पर भी लोग देखने लगे हैं

पिछले दो तीन साल से जिस तरह धुआंधार प्रचार करके दबंग, रेडी और रा वन जैसी फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस से करोड़ों रुपये बटोरे हैं, उसके चलते दर्शकों को भी अब समझ में आने लगा है कि हर वो फिल्म जिसके प्रचार के लिए सितारे शहर शहर घूमे, वो अच्छी ही हो ये जरूरी नहीं। काठ की हांडी के एक बार ही आग पर चढ़ पाने की बात लोगों को पता थी लेकिन इसके बावजूद बीते चंद महीनों में दर्शकों को यूं छलने का क्रम जारी रहा। ट्रेड मैगजीन सुपर सिनेमा के संपादक विकास मोहन कहते हैं, प्रचार करने के परंपरागत तरीकों में जोर फिल्म की कहानी का खुलासा करने के साथ साथ इसकी यूएसपी बताने पर रहा करता था। लेकिन, मौजूदा दौर में प्रचार के दौरान फिल्म के बारे में बातें कम होती हैं, और तमाम दूसरी चीजों के जरिए फिल्म के बारे में उत्सुकता जगाने पर फिल्म निर्माताओं की मेहनत ज्यादा होती है। इस फॉर्मूले ने कुछेक औसत से हल्की फिल्मों के लिए काम भी किया, पर अब दर्शक भी उपभोक्ता की तरह सोचने लगा है। उसे बार बार बेवकूफ नहीं बनाया जा सकता।

फिल्म प्लेयर्स में मुख्य नायिका रहीं बिपाशा बसु भी विकास मोहन की बात से सहमत नजर आती हैं। वह कहती हैं, मुझे ये मानने में कतई गुरेज नहीं कि प्लेयर्स पूरी तरह फ्लॉप रही। हिंदी सिनेमा में एक बार फिर जमाना वर्ड ऑफ माउथ पब्लिसिटी का लौट आया है यानी फिल्म देखकर निकलने वाले दर्शक अगर फिल्म के बारे में अच्छी बातें करते हैं तभी इसका फायदा फिल्म को मिलता है। सोशल नेटवर्किंग साइट्स के चलते इसकी अहमियत और भी ज्यादा बढ़ गई है। अब तो हर दर्शक फिल्म समीक्षक हो गया है, वह फिल्म देखकर निकलने के साथ ही उसके बारे में फेसबुक या टि्वटर पर टिप्पणी कर देता है और इसका असर होता है। इसका सार्थक पहलू ये है कि लोग अब सितारों से ज्यादा कहानियों पर ध्यान देने लगे हैं। विद्या बालन की फिल्मों ने दर्शकों के सोचने के नजरिए में इस तरह का बदलाव लाने में बड़ी भूमिका निभाई है।

 

तो क्या पान सिंह तोमर और कहानी जैसी फिल्मों की कामयाबी की वजह से दर्शकों को अब बड़े परदे पर और भी लीक से इतर कहानियों पर बनी फिल्में देखने को मिलेंगी? जवाब देते हैं फिल्म निर्माता विनय तिवारी। वह कहते हैं, हिंदी सिनेमा को विदेशी सिनेमा की नकल करने की बहुत बुरी बीमारी लगी रही है। इंटरनेट और सैटेलाइट टेलीविजन से ही इस कैंसर का इलाज मुमकिन था और ये अब हो भी रहा है। अब 14-15 साल का बच्चा भी फिल्मों की कहानियों की चोरी या संगीत की धुनों की चोरी पकड़ सकता है। ऐसे में जरूरी हो गया है कि हम अपनी तरह की फिल्में बनाएं। भारतीय सिनेमा को विदेशों में पहचान मदर इंडिया जैसी फिल्मों से ही मिली है और हिंदी साहित्य में ऐसा बहुत कुछ लिखा गया है जिस पर अच्छी हिंदी फिल्में बन सकती हैं। हमने साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता काशीनाथ सिंह के उपन्यास काशी का अस्सी पर फिल्म बनाने का फैसला इसी क्रम में लिया। और, मुझे खुशी इस बात की सबसे ज्यादा है कि सनी देओल जैसे बड़े सितारे भी अब इस बात को समझ रहे हैं और इस तरह के प्रयासों का समर्थन करने के लिए आगे आ रहे हैं।

निर्माता विनय तिवारी की फिल्म मोहल्ला अस्सी को लेकर फिल्म जगत के अलावा युवाओं खासकर छात्रों में बेहद दिलचस्पी है। और, ऐसी ही दिलचस्पी लोग एक और जमीन से जुड़ी फिल्म गैंग्स ऑफ वाशीपुर को लेकर भी दिखा रहे हैं। निर्देशक अनुराग कश्यप की इस फिल्म की प्रेरणा भले एक अंग्रेजी फिल्म ही रही हो, पर भारत की दशा और दिशा में पिछले छह दशकों में आए बदलाव को कहने के लिए जिस तरह उन्होंने एक आम गैंगवार को कहानी को सूत्रधार बनाया है, वो काफी रोचक हो सकता है। अनुराग कश्यप फिलहाल इस फिल्म के बारे में ज्यादा कुछ कहते नहीं हैं। हालांकि, इस फिल्म के निर्माण से जुड़े लोग इसे अनुराग के करियर की अब तक की सबसे महंगी और सबसे निर्णायक फिल्म बता रहे हैं। आमिर और नो वन किल्ड जेसिका जैसी फिल्में बनाने वाले निर्देशक राजकुमार गुप्ता भले नाम कमाने के बाद अब पैसा कमाने के लिए घनचक्कर जैसी विशुद्ध मसाला कॉमेडी फिल्म बनाने की राह पर निकल गए हों, लेकिन पान सिंह तोमर के जरिए कामयाबी की नई ऊंचाई छूने वाले इरफान खान का नजरिया साफ है। वह कहते हैं, कहानी को सोचे और सीते बिना फिल्म बनाना अपने साथ बेईमानी है। और कोई भी काम बिना ईमानदारी के किया जाए तो ज्यादा दिन तक सुकून देता नहीं हैं। हम हिंदुस्तानी सदियों से भावनाओं में बहते आए हैं और ऐसे में अगर ये भावनाएं हमारे अपने बीच की हों तो हर आदमी का दिल ऐसी कहानियों के साथ हो ही लेता है।

How to Prove Wikileaks Wrong?

The figures quoted in Wikileaks’ cable are only an eye opener. No star is today guarantee of box office success, yet they refuse to do away with their astronomical prices. The corporate houses that entered in the film production some years back were looked upon as to mend the ways for film making in Mumbai and take it out from the grip of money launders.

Cinematorium
By Pankaj Shukla

How To Prove Wikileaks Wrong

Two things were noticeable this week in Hindi Cinema.
First The Hindu published a cable released by Wikileaks sent to American officers in India to their home country about the way Hindi Cinema works and how the fakism of this industry has reached to a level where the bubble can burst any time. The cable talks about the over rated prices demanded by some of the top film actors and the over budgeted films being made in Mumbai. The cable speaks about quotes of many authoritative film makers who are of the opinion that if the budgets of Hindi films are not cut down drastically, the industry will see its doom’s day very soon.

Second is the film being released this week I Am. The film is a compilation of four short stories and directed by gay activist Onir. The noticeable things about this film is not only the good craft that its actors and crew have put into it to make it a commendable film but also the way the funds have been generated for it. The film is helped by contributors from 45 different cities across globe and even a city like Kanpur represents its co producers. Though, the film’s main producers Sanjay Suri and Onir yet to clear all their bills for the equipments and services used for making this film, the very fact that it has been liked by most of the people gathered to watch it in a special show organized at Yashraj films studio, which is again situated in the campus of one of the biggest studio of India and known for making big budget films. I saw associate producer and actor of the film Juhi Chawla roaming around in lawn of the studio and trying to recognize some special plants grown in the vicinity. And, again overheard her talks with a journalist and telling her how novice she is in money matters.

First thing first, most of the industries around the world which were hit by the recession three years ago are now somehow trying to regains their spirit and production both. But, a look at all these three years in Hindi Cinema, and prices of stars have only been increasing. The figures quoted in Wikileaks’ cable are only an eye opener. No star is today guarantee of box office success, yet they refuse to do away with their astronomical prices. The corporate houses that entered in the film production some years back were looked upon as to mend the ways for film making in Mumbai and take it out from the grip of money launders. But to keep their share prices high, they went on announcing one project after another with huge budgets and prices for the actors that were unheard of. They raised the money for these films from the market and again sold these low on content and high on glamour films to the same share holders in the market. Then every film just after the three days’ of its release was declared a hit and huge collections were quoted in  the newspapers and hoardings. Thanks to Income Tax department’s raid on the offices of Arbaaz Khan, the producer of Dabangg that this practice has now slowed down if not stopped. Income Tax sleuths could not find any detail of the money that Arbaaz has publicized against his film’s collections.

Hindi Cinema is getting butchered by its own men. Everyone here talks about content being the king but the very few bother to search for the good content in fact. Every director is asked to get stars, and every start asks for a big banner. It becomes like a chicken and egg situation for a good but new director to start a film which might be a good story but when he finds himself in a situation like this, he sits back at home and works on mediocre things to earn his family’s bread and butter. Wikileaks’ cable is just an indication to what is going on in Hindi film industry. The point was proven last year with the decision of T Series of not to release Puja Bhatt directed Kajrare, a film which has a super star in fading Himesh Reshamiya, properly. To sell film’s satellite rights they had to complete formality of film’s theatrical release and that they did it by releasing the film in just three theatres, two in Mumbai and one in Pune. Same doom looms upon another film of Himesh, A Love Isshtory directed by Sarfarosh fame John Mathew Mathan. Both these films are high budgeted films but could not find any takers to distribute and exhibit them. T series people were clever enough to not waste money on publicity of these films and did away silently.

On the other hands films like I Am, Chalo Dilli at present and Tere Bin Laden, Bheja Fry and others in recent past not only generated good curiosity among viewers but also did good business for their producers. As a trade analyst puts it, it is safer to make a Rs. 5 Crore budget films and earn the money back than to make a Rs. 50 Crore budget film and lose everything. Films like I Am and Chalo Dilli are a welcome change in Hindi Cinema and their success can only make Hindi Cinema survive and prove the Wikileaks prediction wrong. Amen

Once There Used To Be Film Critics…

Cinematorium
Pankaj Shukla

Having stopped reviewing films on weekly basis long back, I hardly have an urge to watch each and every movie first day first show now. Friday noon or Thursday evenings used to be booked for a film in my weekly schedules for almost a decade then and no matter what, be it rain, the thunderstorms or the scorching heat, I had to be there to see a new film. Sometimes the time used to pass by with an entertaining film, sometimes it was more thoughts than entertainment that used to come to mind and sometimes it were all emotions. But to see a film and then curse the self for wasting more than two hours of life on a trash used to be a case once in a quarter. Even flop films till sometimes back had a sense and something or the other in their making had some magic to keep you intact.

Nowadays in the time of celebration of corrupts, Film reviews too have fallen in the hands of marketing people in the dailies of most of the newspapers in India. Any person who dares to judge a film by his or her gut is sure to be crucified with so called Gangs of Marketing Men. They are modern Men In Black who are out to write the new rules of journalism and their over enthusiasm to milk producers have taken a heavy toll on ethical film journalism. Last year only when I was sitting with a close friend and one of the top most film distributors of Northern India, he cursed me for not writing weekly film reviews in a time when critics not only get plasma TV, double door fridges and foreign trip tickets but also their palms are greased well. I was aghast listening this and could only feel ashamed of the fact that the person sitting across the table is making fun of a profession which I almost fell in love. It was like listening someone abuse your darling and you could do nothing.

I don’t know how much truth was in his satire, but if he is wrong then how would a critic will rate a film with one star and other one will go on to give the same film four stars or sometimes even five stars. Not long back, a producer friend of mine wanted to make a film on this film review business and approached me to write a story for the same. I advised him if he wants to make a standing in the film trade, he should keep away from this and better make films on some other topics. Thankfully, he agreed and I was saved in washing dirty clothes of my own fraternity in public. But, now it is becoming above saturation point. It is like a time when somebody needs to stand up and say, Enough.

I liked the reviews of Minty Tejpal off late who used to write in Mumbai Mirror till very recently and may be because of his being true to his heart has cost him his job. His name has vanished from the paper’s weekly film review section. All these thoughts have been occupying much space of mind since the time I came out watching film 3 They Bhai recently. I was so much in praise of its producer Rakeyesh Omprakash Mehra till the time I didn’t see this film. He gave interviews with the headlines, ‘Producers in Hindi Film Industry do not have story sense’. And, he went on record to say that was the only reason he made 3 They Bhai. The headlines seekers gave huge space to Mr. Mehra in their papers. I am certain that he learnt this art from his hero in Rang De Basanti, Aamir Khan. Shout from the top of the highest building in town like Veeru and win Basanti (the viewers). Who cares what happened when Veeru and Basanti left in the train from Ramgadh. The money spent in buying tickets is in the pocket of the producer. His job is done, the viewers can wait for their revenge till his next film. As a producer he is not going to release his next film very soon in near future and it is certain that he will not have to bear the same burnt that Akshay Kumar is still facing post his idiotic comedy Singh Is King.

Gone are the days when writing a film review was deemed as an art. People used to line up to get an admission in film appreciation course, now every Tom, Dick and Harry is a film critic. Those who don’t even heard of plot points and basics of screenplay are the most talkative film critics in any press show. People who have no knowledge of music and its beats praise a shit song like National Anthem of the country. So overawed are these reviewers that they declare even a film like Raavan, a super hit, as soon as you start reading end credits in the theatre itself. One can now count genuine film critics in the country on finger tips, who are not in awe of stars, who don’t look for complementary things, who have no issue in watching a film with their own money than to watch in a press show and feel obliged for hardly 200 bugs. But, do newspapers have space to publish their views any more. The question is Too Boo or not to boo

Sachin Bhowmik mastered the phenomenon of rebirth and double roles in Hindi Cinema

Cinematorium
By Pankaj Shukla

Sachin Bhowmik passed away.  As soon as the message flashed away on my mobile,  I shared It with some young guns of journalism standing around after an event hosted by Sub hash Ghazi who launched more than half a dozen of new talents including few actors from his acting school Whistling Woods during the proceedings. He was in gaiety and joy to see his disciples taking a new plunge in the mad mad world of Hindi Cinema or Bollywood as they say it in Mumbai in general lingo. Amitabh Bachchan and Salman Khan hate this word Bollywood and so do I. I prefer calling it Hindi Cinema. But, time has changed and no new/young journalist finished his copy without using this 8 letter word. These young wordsmiths asked me in curiosity, Sir, Who was he? I walked away from there thinking this is the change time has witnessed being Hindi Cinema to Bollywood. Here nobody cares for bygones.

After some time I called up Jalees Sherwani who is at the helm of looking after affairs of The Film Writers Association, he showed his grief but when I asked him if there is any condolence meeting planned among the writer fraternity. His reply made me feel more sad. He informed me it being a holiday, nothing could be organized in TFWA’s office. Sachin Bhowmik has been a veteran in creating characters who spoke like any ordinary common man and yet achieved their dreams on celluloid. He created super hit characters for Shammi Kapoor in films like Janwar, Brahmchari, An Evening In Paris among others. He gave Rajesh Khanna a start in Aradhana that would create such a huge fan following form him that he became a Super Star in days to come.  Rishi Kapoor tasted his first brush with Stardom post Bobby in Khel Khel Mien again written by Sachin Bhowmik. When I spoke to Rishi, he was sad. He told me about the relationship he maintained with this brilliant wordsmith. Sachin Bhowmik wrote many films for Rishi Kapoor including his first directorial venture Aa Ab Laut Chalien.  He gave credit of his success to Sachin Bhowmik without holding any words. He was all praise for a person who gave life to fictitious characters for him.

Subhash Ghai was also at loss thinking about his relationship with Sachin Bhowmik who wrote 10 films for the once called new show man of Hindi Cinema. From Karz to Karma to Saudagar to Yuvraj, Sachin Bhowmik has been an inseparable member of his writing team for more than two decades. Rajesh Roshan’s father in law had given Sachin Bhowmik his first major break in Aayi Milan Ki Bela, the Rajendra Kumar starrer which went on to become a cult film in Hindi film industry. This was beginning of a writer who will wrote as diverse romantic films for three generations of actors as Aaye Din Bahar Ke, Zamane Ko Dikhana Hai , Aan Milo Sajna, Andaaz, Yeh Dillagi and Kisna. Rishi Kapoor aptly said, Sahchin Bhowmik crated magic for every era of romantic films all his life.  In later years, Sachin would write free handedly for his son-in-law Rakesh Roshan for films like Koyla, Karan Arjun and Karobar. It was Sachin Bhowmik only who wrote screenplay of Koi Mil Gaya and Krrish which catapulted J Om Prakash’s grandson Hrithik into a super hero. Thus, He paid back the obligation that he received from Hrithik’s grandfather.

Content is the king, one can hear this phrase from every next producer of this Hindi film industry but even now if any new director goes to them with a story the first question that they ask, who is the star he has got agreed to do this film. Life moves on and so will move on the Hindi film industry but as Amitabh Bachchan says Sachin Bhowmik will always be remembered as a prolific writer who mastered phenomenon of rebirth and double roles in Hindi Cinema.

Beginning of a writer who wrote as diverse romantic films for three generations of actors as Aaye Din Bahar Ke, Zamane Ko Dikhana Hai , Aan Milo Sajna, Andaaz, Yeh Dillagi and Kisna. Rishi Kapoor aptly said, Sahchin Bhowmik created magic for every era of romantic films all his life. In later years, Sachin would write free handedly for his son-in-law Rakesh Roshan for films like Koyla, Karan Arjun and Karobar. It was Sachin Bhowmik only who wrote screenplay of Koi Mil Gaya and Krrish which catapulted J Om Prakash’s grandson Hrithik into a super hero. Thus, he paid back the obligation that he received from Hrithik’s grandfather.

Content is the king, one can hear this phrase from every next producer of this Hindi film industry but even now if any new director goes to them with a story the first question that they ask, who is the star he has got agreed to do this film. Life moves on and so will move on the Hindi film industry but as Amitabh Bachchan says Sachin Bhowmik will always be remembered as a prolific writer who mastered phenomenon of rebirth and double roles in Hindi Cinema.

The Eighth Indian Film Festival “Bollywood and Beyond”

The eighth Indian Film Festival “Bollywood and Beyond”.

The eighth Indian Film Festival ‘Bollywood and Beyond’, organized and hosted by the Filmbüro Baden-Württemberg, is the largest Indian film festival in Europe. From 20th to 24th July, 2011 a wide selection of Indian movies and various supporting events introduce the German and European audience to the variety that Indian film and culture have to offer.

‘Bollywood and Beyond’ started out as a celebration of the town twinning between the cities of Stuttgart and Mumbai in 2004. The festival supports the Indo-German cultural exchange. Putting Indian films of different genres into the spotlight, it celebrates the diversity of Indian film and culture.

Screening over 50 Indian art house films, documentaries, short and feature films as well as big Bollywood blockbusters, the festival aims to create an original and authentic reflection of Indian culture and everyday life. Thus the festival has become an important institution for cultural exchange with over 15,000 visitors in 2010. Submissions are open until April 15th 2011.

Film Pprogramme

The Indian Film Festival ‘Bollywood and Beyond’ screens feature films, documentaries and short films (up to 60 minutes) in their original language with English subtitles. We are proud to announce Uma da Cunha and Therese Hayes as curators once again.

The festival competition features five awards:

– ‘German Star of India’ for best feature film, endowed with 4,000 €
– ‘German Star of India’ for best documentary, endowed with 1,000 €
– ‘German Star of India’ for best short film, endowed with 1,000 €
– Audience Award (open to all categories), endowed with 1,000 €
– Director‘s Vision Award (prize for outstanding dedication to a social or political issue within a film)

यारों सब दुआ करो…

अरसा हो गया अनुभव सिन्हा से बात किए हुए। हमारी आखिरी बातचीत तब हुई थी जब उन्होंने मुझे एक संभावित फिल्म निर्माता समझ कर फोन किया था और उन्हें लगा था कि मैं दिल्ली से बहुत सारा पैसा लेकर मुंबई पहुंचा हूं फिल्म बनाने। उन दिनों मैंने अपनी पहली फीचर फिल्म का काम बस शुरू ही किया था। अपनी फिल्म कैश के नाकाम रहने के बाद तब अनुभव सिन्हा काम तलाश रहे थे।

सिनेमांजलि
पंकज शुक्ल

पूरा देश जहां एक तरफ क्रिकेट वर्ल्ड कप के खुमार में डूबा हुआ है, सुनते हैं कि शाहरुख खान ने अपनी लंबे समय से बन रही और जल्द रिलीज होने जा रही फिल्म रा वन का पहला प्रोमो रिलीज कर दिया है। और, ये संयोग ही है कि ठीक इसी समय कार्टून नेटवर्क ने अपना न्यू जेनरेशन सर्वे भी इस साल के लिए रिलीज किया। पश्चिमी देशों में फिल्म और कार्यक्रम निर्माता अपने हर प्रोजेक्ट से पहले इस तरह के सर्वे कराते हैं और संभवत: कार्टून नेटवर्क ने अपनी भावी कार्यक्रम योजनाओं के मद्देनजर ऐसा किया। सर्वे के तमाम दिलचस्प नतीजों में एक नतीजा ये भी सामने आया कि भारतीय अभिनेताओं की बात चलने पर बच्चों के बीच शाहरुख खान अब भी सबसे ज्यादा पसंद किए जाते हैं। सर्वे में शामिल बच्चों में से 28 फीसदी ने शाहरुख को अपनी पहली पसंद बताया। सलमान खान उनके बाद नंबर दो पर और ऋतिक रोशन नंबर तीन पर रहे। हालिया प्रसारित हुए रिएल्टी शो जोर का झटका के आंकड़ों के लिहाज से देखा जाए तो शाहरुख का तिलिस्म छोटे परदे पर कम होता जा रहा है, लेकिन इसकी बड़ी वजह उनका इन दिनों अपने सार्वजनिक कार्यक्रमों के दौरान ऐसी भाषा का प्रयोग करना माना जाता रहा है, जो भारतीय परिवार एक साथ बैठकर सुन और देख नहीं सकते। लेकिन, भले बड़ों के लिए ये भाषा अभद्र रहे, टीन एजर्स इसे ट्रेंडी मानते हैं। रा वन शाहरुख का ड्रीम प्रोजेक्ट है और इस पर वह पानी की तरह पैसा बहा भी रहे हैं। लेकिन, इस फिल्म मेरी दिलचस्पी सिर्फ इसलिए ही नहीं है कि देखें तो भला कि इसी कहानी पर पहले ही बन चुकी रोबोट से ये फिल्म कितना अलग रहती है बल्कि मैं इसका इंतजार इसके निर्देशक अनुभव सिन्हा की वजह से कर रहा हूं।

अरसा हो गया अनुभव सिन्हा से बात किए हुए। हमारी आखिरी बातचीत तब हुई थी जब उन्होंने मुझे एक संभावित फिल्म निर्माता समझ कर फोन किया था और उन्हें लगा था कि मैं दिल्ली से बहुत सारा पैसा लेकर मुंबई पहुंचा हूं फिल्म बनाने। उन दिनों मैंने अपनी पहली फीचर फिल्म का काम बस शुरू ही किया था। अपनी फिल्म कैश के नाकाम रहने के बाद तब अनुभव सिन्हा काम तलाश रहे थे। मैंने उन्हें समझाया कि मैं इस प्रोजेक्ट से बस एक निर्देशक की हैसियत से ही जुड़ा हूं और जिस किसी ने भी मेरे फिल्म निर्माता होने की सूचना उन तक पहुंचाई है, उसके पास गलत जानकारी रही है। उसके बाद उनका दोबारा फोन नहीं आया, और मैं भी जिंदगी के दूसरे झंझावातों से जूझने में लगा रहा। लेकिन, मुझे वे दिन अब भी याद हैं जब अनुभव सिन्हा मुझे अक्सर फोन किया करते थे और फोन उठाते ही पूछते थे कि क्या वह मुझसे बात कर सकते हैं? और क्या बातचीत के लिए वह सही समय है। ये वो वक्त था जब वो म्यूजिक वीडियो डायरेक्टर से फिल्म डायरेक्टर बनने की तरह पहली छलांग लगा चुके थे। आपको शायद मालूम ही होगा कि सोनू निगम के शुरुआती अलबमों के ज्यादातर वीडियो अनुभव सिन्हा ने ही निर्देशित किए हैं और ये अनुभव सिन्हा ही थे जिन्होंने शायद पहली बार अपने म्यूजिक वीडियो में बिपाशा बसु को ग्लैमर की दुनिया का पहला बड़ा मौका दिया था। अनुभव सिन्हा की दूसरी फिल्म आपको पहले भी कहीं देखा है, बुरी तरह फ्लॉप रही। ये फिल्म मैंने दिल्ली के कनॉट प्लेस के एक थिएटर में देखी थी। फिल्म देखने के बाद मैंने अनुभव को फोन किया और बताया कि फिल्म के संपादन की शैली मुझे काफी पसंद आई और ये भी कि उनका कहानी कहने का अंदाज बजाय एक रूमानी फिल्म के किसी थ्रिलर के लिए ज्यादा मुफीद है।

अनुभव ने उसके बाद कभी कोई रूमानी फिल्म नहीं बनाई। उनकी अगली दो फिल्में थी दस और कैश। इन फिल्मों के बाद वह बतौर निर्देशक बड़े परदे पर वापसी के लिए लंबा इंतजार कर चुके हैं। सिनेमा में संघर्ष के दिन ज्यादातर तकनीशियनों को जिंदगी की हकीकत से रूबरू कराते हैं। मुझे उम्मीद है कि ऐसा ही कुछ सबक अनुभव ने भी अपने इस संघर्ष से सीखा होगा और वह अब भी रा वन की टीम के कप्तान की हैसियत से अपने एक बड़े सपने को परदे पर उतारने में तल्लीन होंगे। अनुभव में फिल्म बनाने के सबसे अहम पहलू शॉट डिवीजन के दौरान नए नए प्रयोग करने की अद्भुत क्षमता है। वह एक मंजे हुए तकनीशियन और एक उम्दा निर्देशक हैं हालांकि यही बात उनकी निजी शख्सीयत के बारे में मैं दावे के साथ नहीं कह सकता। ग्लैमर की दुनिया की चकाचौंध के अलावा इस जिंदगी का एक दूसरा पहलू भी है, जो उतना आकर्षक अक्सर नहीं दिखता। अनुभव ने मुंबई आकर जिन दोस्तों का गुट बनाया था, वह अब बिखर चुका है। उन पर फ्लॉप निर्देशक का तमगा चस्पा होने के बाद वे सारे दोस्त उनसे कन्नी काटकर निकल चुके हैं। शायद अनुभव और शाहरुख दोनों का दिल्ली कनेक्शन उन्हें रा वन के करीब लाया। इस फिल्म की शूटिंग के दौरान अक्सर हमें तरह तरह के किस्से सुनने को मिलते रहे हैं कि कैसे हर शॉट के बाद अनुभव ओके कहने से पहले शाहरुख का मुंह ताकते हैं। लेकिन मेरा अपना मानना है कि अगर ऐसा होता भी रहा है तो शाहरुख का बतौर निर्माता इसका हक बनता है। रा वन की मेकिंग से जुड़े मित्र बताते रहे हैं कि ये फिल्म हिंदी सिनेमा निर्माण में एक नया अध्याय जोड़ सकती है। ये फिल्म दुनिया की बेहतरीन फिल्मों का मुकाबला करने में सक्षम है। हालांकि, मैंने रा वन का फर्स्ट लुक प्रोमो अभी तक नहीं देखा है, फिर भी मुझे यकीन है शाहरुख जैसे सुपर स्टार और अनुभव जैसे काबिल हुनरमंद ने मिलकर जरूर एक ऐसी फिल्म बनाई होगी जो अनुभव के शुभचिंतकों और शाहरुख के प्रशंसकों को समान रूप से पसंद आएगी।